Trending

तिरुपति टायर्स ₹20 से ₹250 की ओर? मिशेलिन से 350 करोड़ का मेगा ऑर्डर मिला

साणंद (गुजरात) मुख्यालय वाली ममता मशीनरी लिमिटेड ने सेबी के समक्ष दाखिल किया ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी)

जानी-मानी कैंसर विशेषज्ञ डॉ. (प्रोफेसर) ज्योति बाजपेयी ने लीड-मेडिकल एंड प्रिसिजन ऑन्कोलॉजी (मुंबई और महाराष्ट्र क्षेत्र) के रूप में अपोलो कैंसर सेंटर ज्वॉइन किया।

प्रीमियर एनर्जीज लिमिटेड ने अपनी सहायक कंपनियों के साथ अप्रावा एनर्जी से 350 मेगावाट का सोलर मॉड्यूल आपूर्ति का ऑर्डर प्राप्त किया

उर्वशी रौतेला, डिवाइन ब्रिक्स की ब्रांड एंबेसडर, ने 180% मुनाफा वृद्धि के उपलक्ष्य में टीम को 200 फ्लैट्स पुरस्कार स्वरूप प्रदान किए; संस्थापक महेंदर सिंह उपस्थित रहे  

आखिर कुत्तो के पेशाब करने का ये अनोखा तरीखा क्यों जानिए आप भी

हम सभी ने कुत्तों को कभी न कभी बिजली के खंभे या कार के टायर को गीला करते तो देखा ही होगा, लेकिन कभी यह नहीं सोचा कि आखिर कुत्ते पेशाब करने के लिए इन दो जगहों को ही ज्यादा क्यों पसंद करते हैं। हम सभी जानते हैं कि कुत्ता इंसानों के प्रति सबसे ज्यादा वफादार प्राणी है, इसके अलावा अन्य जानवरों की तुलना में कुत्ता थोड़ा ज्यादा सामाजिक भी होता है।

कार के टायर और बिजली के खंभों पर पेशाब करने के पीछे भी दरअसल एक सामाजिक कारण ही जिम्मेदार होता है। ऐसी जगहों पर पेशाब करके कुत्ते दूसरे कुत्तों के लिए अपनी गंध छोड़ जाते हैं।

आमतौर पर कुत्ते पेशाब करने के लिए ऐसी जगह को तरजीह देते हैं, जो सीधा खड़ा हो। इससे उनका निशाना सटीक बैठता है और खुल कर हलके हो लेते हैं। इतना ही नहीं, अपने इस अनोखी क्रिया से वो दूसरे कुत्तों के लिए नाक की ऊंचाई पर ही अपने पेशाब की गंध छोड़ जाते हैं।

पेशाब की गंध क्षितिज सतह से ज़्यादा देर तक वर्टिकल सतह पर मौजूद रहती है। उनकी इस आदत से वो दूसरे कुत्तों को अपने क्षेत्र से परिचित कराते हैं। इसका मतलब ये भी होता है कि वो दूसरे कुत्तों को संभवत: अपने इलाके की जानकारी देते हो।

स्रौत- नई दुनिया

Post a Comment

Previous Post Next Post

Contact Form